पीरियड में क्या-क्या नहीं करना चाहिए?

period me kya kya nhi krna chahiye
period me kya kya nhi krna chahiye
मासिक धर्म के दौरान ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं जो हमे नहीं करनी चाहिए या सोचनी चाहिए. हर हफ्ते मासिक धर्म चक्र के बारे में कोई नयी जानकारी और अध्ययन सामने आते हैं.

 हालही में हुए अध्ययन में महिलाओं के मासिक धर्म के बारे में कई सारी दिलचस्प बातें सामने आयी हैं. पहला तो यही है कि जब हमे पीरियड्स होते हैं तो हमे प्यार करने का मन होता है. यह इसलिए भी होता है क्योंकि इस दौरान प्रोजेस्टेरोन हार्मोन जो लिबीडो कम कर देता है.

यही नहीं पीरियड्स के दौरान हम किसी भी चीज़ पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं. यूनाइटेड स्टेट्स में औसतन हर महिला को 450 बार पीरियड्स अपने पूरे जीवन काल में होते हैं. यह हमारे पूर्वजों से को होने वाले पीरियड्स से कई गुना ज्यादा है जब की उन्हें सिर्फ 50 बार पीरियड्स होते थे.

वहीँ ऐग्रिकल्चरल सोसायटी में महिलाओं द्वारा लगभग 150 बार पीरियड्स होते थे. हमारे पीरियड्स के दौरान हमारे शरीर से बहुत सारा खून बह जाता है तो ऐसे में हमे भी अपना ख्याल रखने की जरूरत है.

अब जब अगली बार आपके पीरियड्स हों तो आपको यह पता होना चाहिए कि आपको क्या करना है और क्या नहीं करना है. आइये आज हम आपको ऐसी कुछ बातें बताने जा रहें जो आपको अपने पीरियड्स के दौरान नहीं करनी चाहिए

1. डिप्रेसिंग फिल्में देखना


 पीरियड्स के दौरान हम कई तरह की भावनाओं का सामना कर रहे होते हैं. कभी हमे खुशी होती है तो कभी हमे दुःख होता है कभी हमे क्रोध आता है तो कभी हम असुरक्षित महसूस करते हैं. यह सब देख कर घर के पुरुष कई बार घबरा जाते हैं और डर जाते हैं कि हमे क्या हो गया है. इसीलिए ऐसे समय में हमे किसी भी तरह की डिप्रेसिंग फिल्में या अन्य कोई प्रोग्राम नहीं देखना चाहिए. जिससे हमारी भावनाओं को और ठेस पहुंचे. इसलिए जितना हो सके खुश रहें और अच्छी फिल्में देखें. इससे आपका मूड भी अच्छा रहेगा. और घर वालो को भी कन्फूशन नहीं होगा कि आपको क्या होगया है.

2. वैक्स 


कई सारी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान बहुत दर्द होता है क्योंकि इस समय हमारे शरीर में एस्ट्रोजेन का स्तर कम हो जाता है. जिन महिलाओं को यह यह पहली बार होता है उन्हें पता है कि यह कितना पेनफुल होता है. इसीलिए कई महिलायें इस समय डेन्टस्ट या डॉक्टर के पास जाती है. और इस दौरान वैक्सिंग कराने का तो सोच भी नहीं सकती हैं इसलिए अपने पीरियड्स के हफ्तेभार बाद ही वैक्स करा लीजिए जब आपका एस्ट्रोजेन का स्तर वापस पहले की तरह हो जाता है

3. सफेद पैंट पहनना 


सफेद पैंट कभी भी आउट ऑफ़ फैशन नहीं होती हैं. और पीरियड्स के दौरान इन्हें पहना किसी किसी चुनौती से कम नहीं है. और अगर गलती से पहन लिया तो दिन भर भगवान से मनाया जाता है कि कही दाग तो नहीं लग गया है. इसलिए इस रिस्क को लेने से अच्छा है कि आप अपनी सफेद पैंट को महीने के इन दिनों में बिलकुल ना पहने. और जब आपके पीरियड्स ख़त्म हो जाएँ तो आप पूरे आत्मविश्वास के साथ इन सफेद पैंट को पहन सकती हैं.

4. कुछ दिन जिम ना जाना 


पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और ऐंठन की वजह कई बार हम घर पर रह कर टीवी देखते हैं या फिर बेड पर लेट कर कुछ न कुछ खाते रहते हैं. लेकिन यह सब करना ठीक नहीं है. वीमेन हेल्थ मैगज़ीन के मुताबिक हमे इस दौरान थोड़ा बहुत व्यायाम करना चाहिए. व्यायाम करने से ना सिर्फ शरीर का दर्द ठीक होगा बल्कि पीरियड्स से होने वाले दर्द में भी आराम मिलेगी. कई महिलायें यह भी कहती है कि पीरियड्स के दौरान जिम में व्यायाम करने से उन्हें पीरियड्स के दर्द में आराम मिली है.



5. खाने में दूध से बनी चीज़ें खाना


 पीरियड्स के दर्द से बचने के लिए कैल्शियम खाएं. लेकिन दूध या दूध से बनी कोई भी चीज़ जैसे पनीर या दही नहीं खाना चाहिए. पीरियड्स के दौरान यह सब खाने से पीरियड्स का दर्द और बढ़ सकता है क्योंकि इसमें एराकाडोनी एसिड पाया जाता है. इसके बजाये आपक बादाम का दूध पीएं या नारियल के दूध से बना दही खाएं इससे आपको कैल्शियम भी मिलेगा और और दर्द भी नहीं होगा. इसके अलावा आप फल भी खा सकते हैं या उनसे बनी स्मूदी पी सकती हैं.

6. पैड्स चेंज ना करना 


जब हम काम करते हैं तो पूरे दिन काम करके घर भागते हैं. और अगर ऐसे में हमे पीरियड्स हो और हम आपकी स्वच्छता का ध्यान ना रखें तो इससे हमे ही नुक्सान होगा. यही नहीं ज्यादा देर तक पैड को पहने रहे से उनमें बैक्टीरिया होने लगते हैं जिससे हमे ही नुक्सान होगा. इसीलिए पैड और टैम्पोन को हर तीन से चार घंटे में बदलते रहना चाहिए. इसके साथ काम के दौरान हमे अपने पर्स में पैड और टैम्पोन रखना चाहिए जिससे जरुरत पड़ने पर हम इसे बदल सके.

7. स्‍विमिंग ना करना 


क्योंकि आपके पीरियड्स हैं तो क्या आप बाहर नहाने नहीं जा सकती हैं. आपको जान के यह ताजुब होगा कि कई महिलाएं स्कीनी डिपिंग में पीरियड्स के दौरान जाने के लिए ऑनलाइन टिप्स ढूढ़ती हैं. कई महिलाएं टैम्पान पेहेन कर और उसका स्ट्रिंग टक कर लेती हैं जिससे वह दिखे नहीं.

8. नमक खाना


 ज्यादा नमक का खाना खाने से पीरियड्स के दौरान और ऐठन होती है. और इससे पीरियड्स के दौरान आप और लाउज़ी महसूस करते हैं. इसके बजाये आप फल और सब्ज़ियां खाएं जिससे आपको आवश्यक मिनरल्स और विटामिन मिलते रहें.

9. कैलोरी बहुत ज्‍यादा खाना 


इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप महीने के किस समय कैलोरी खा रहें हैं. अगर आप पीरियड्स के दौरान भी ज्यादा कैलोरी खायेंगें तो इससे भी आपका वजन बढ़ेगा. और इस समय तो हमे अपने खाने पीने का ध्यान अधिक रखना पड़ता है. ऐसे समय में हमे चॉकलेट खाने का बहुत मन होता है लेकिन इसका यह कतई मतलब नहीं है कि आप पूरी एक चॉकलेट एक बार में खा जाएँ. इसके बजाये इसे आप दो तीन दिन तक खाएं. यही नहीं ऐसे समय में हमे टला भुना भी खाने का मन होता है. तो इसके बदले में स्वस्थ वर्धक भोजन भी खा सकती हैं। जैसे आप फलों की स्मूदी बना कर पी सकती हैं. यही नहीं इसके अलावा बाजार में भी स्वादिष्ट और स्वस्थ वर्धक कूकीज और स्नैक खरीद कर खा सकती हैं.

10. किसी से बुरा बर्ताव ना करें


 दूसरों से बुरा बर्ताव करना कोई अच्छी बात नहीं है. अगर आपके पीरियड्स हैं और आपको मूड स्विंग हो रहें हैं तो इस बारे में अपने परिवार या पति से बात करें कि आप इस समय वे अकेला छोड़ दें. ऐसे में आपको वॉक पर जाना चाहिए, या व्यायम करें या फिर रूम में जाएँ और कोई अच्छी सी बुक पढ़ें. इस दौरान आप अपने व्यतीत को सुधाने और अपनी हेल्थ पर ध्यान दें. वास्तव में पीरियड्स के दौरान आप को अपने बारे में सोचने का समय मिलता है कि कैसे आप अपनी ज़िन्दगी को बेहतर कर सकती हैं
पीरियड में क्या-क्या नहीं करना चाहिए?  पीरियड में क्या-क्या नहीं करना चाहिए? Reviewed by Health Info on May 31, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.